Wednesday, 22 December 2010

चीन ने फिर कर दिखाया.हम कब करेंगे.

इसे कहते हैं अपनी भाषा से स्नेह. हम कब सीखेंगे. यह प्रश्न हिंदी भाषा के समाचार पत्र-पत्रिकाओं से है. कृपया नीचे दी गयी कड़ी को खोलें.
 चीन में विदेशी शब्दों के प्रकाशन पर रोक